Saturday, July 20, 2024

खुद को मंत्री रुद्रगुरु का करीबी बताता, कहता- SP, DSP मेरे अंडर..नौकरी लगवा दूंगा; अब पुलिस को तलाश

- Advertisement -

रायपुर की पुलिस ने खुद को कांग्रेस नेता बताने वाले एक युवक पर 420 का केस दर्ज किया है। उनके ऊपर छत्तीसगढ़ के 30 से अधिक बेरोजगारों को सरकारी नौकरी का झांसा देकर लाखों की ठगी का आरोप है। फिलहाल सामने आए इसके 5 शिकार हुए युवकों की शिकायत पर कार्रवाई की गई है। इस ठगी को अंजाम देने वाले युवा कांग्रेस के नेता जी का नाम है हुसैन रिजवी। ये जनाब खुद को अहिवारा विधानसभा का उपाध्यक्ष बताते हैं और मंत्री रुद्र गुरू का करीबी भी।

read more छत्तीसगढ़ में फिर बढ़ेगी ठंड:अधिकांश जगहों में बारिश के बाद छाया घना कोहरा;अगले दो दिन में 5 डिग्री तक गिरेगा पारा

मामले में आरोपी हुसैन रिजवी उर्फ हसन खान भिलाई चरोदा के वार्ड-9 में रहता है। अब पुलिस को इसकी तलाश है। इसकी ठगी का शिकार हो चुके 28 साल के अनिल देवांगन ने बताया कि अहिवारा के रहने वाले लवकुश देवांगन, सेमरा निवासी रवि सिन्हा, गातापार के रहने वाले टेमन लाल साहू, और धमतरी के बेरोजगार युवक उमेश ध्रुव को हुसैन ने अपने झांसे में लिया। साल 2020 को आरोपी नेता जी इन युवकों के संपर्क में आए। इन्हें पुलिस और PWD में नौकर दिलाने का सपना दिखाकर सभी से कुल 9 लाख 95 हजार रुपए ले लिए। शिकायतकर्ता अनिल का दावा है कि हमारी तरह 30 से अधिक और बेरोजगार हैं, जिन्हें आरोपी ने ऐसे ही ठगा।

read more मलाला-मरियम का दोहरा रवैया:भारत के हिजाब विवाद में मुस्लिम लड़कियों का सपोर्ट, लेकिन सिंध की राजपूत लड़कियों के रेप पर खामोशी

अनिल की तरह कुछ युवकों ने पुलिस भर्ती के लिए आवेदन किया था। इन्हें हुसैन ने रुपयों के बदले नौकरी दिलाने का वादा किया। कई बार बातों-बातों में हुसैन कहता था कि उसके अंडर कई SP DSP रहते हैं। उसके सारे काम एक झटके में होते हैं। मंत्री रुद्रगुरु का नाम लेकर भी वो कहता था कि वो उसे बेहद मानते हैं। उसने सोशल मीडिया पर इस तरह की कुछ तस्वीरें भी पोस्ट कर रखी थीं।

हुसैन ने रुपए लेने के बाद कैंडिडेट्स से कहा कि वो उनकी पुलिस ट्रेनिंग करवाएगा ताकि वो भर्ती में अच्छा परफॉर्म कर सकें। बकायदा इसके लिए उसने ट्रेनर रखे थे। पिछले साल फरवरी में वो ठगी का शिकार हुए युवकों को जगदलपुर लेकर गया। वहां ट्रेनर से सुबह-सुबह मैदान में रनिंग, जंपिंग वगैरह की वैसी ही ट्रेनिंग करवाता था जैसी पुलिस विभाग में होती है। ये सब देखकर रुपए देने वाले बेरोजगार उसके झांसे में आए।

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -