Tuesday, July 23, 2024

डेंजर जोन में फंसे छत्तीसगढ़ी छात्र:यूक्रेन में रूसी सेना की बमबारी के बीच जान हथेली पर रखकर बाहर निकले स्टूडेंट्स

- Advertisement -

यूक्रेन में एक दिन की राहत के बाद मंगलवार को फिर से बमबारी शुरू हो गई है। ऐसे में छत्तीसगढ़ समेत देश के हजारों स्टूडेंट्स की वतन वापसी की राह में फिर से रोड़ा खड़ा हो गया है। कीव में फंसे भारतीय स्टूडेंट्स को एडवाजरी जारी कर दूतावास ने अपनी जिम्मेदारी पूरी कर ली। उन्हें कैसे और कहां जाना है यह तक नहीं बताया गया। इधर, खारकिव और सम्मी में रूसी सेना लगातार बमबारी कर रही है। इसके चलते ये इलाका डेंजर जोन बना हुआ है और यहां फंसे छात्रों की परेशानी और बढ़ रही है।

वहीं मंगलवार को गोले-बारूद के ढेर से होते हुए स्टूडेंट्स किसी तरह रेलवे स्टेशन और सड़क मार्ग से कीव से बाहर निकले। अभी भी यूक्रेन के पश्चिमी शहर और रूस के बीच बहुत से स्टूडेंट्स फंसे हुए हैं। युद्ध और कर्फ्यू के हालात में उनका बाहर निकलना मुश्किल है।

यूक्रेन-रूस में युद्ध शुरू होने के साथ ही NACHA (नॉर्त अमिरिका छत्तीसगढ़ एसोसिएशन) की टीम लगातार छत्तीसगढ़ के स्टूडेंटस को अलग-अलग सूमह में एकत्रित कर उन्हें सुरक्षित करने में जुटी हुई है। NACHA के प्रेसीडेंट गणेश कर और उनकी टीम ने यूक्रेन में पढ़ने वाले छत्तीसगढ़ के 150 से अधिक बच्चों की सूची तैयार की है

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -