Tuesday, July 23, 2024

महाकाल की महाशिवरात्रि :गणेश मंडपम पर भीड़ के चलते आधे घंटे रुकी श्रद्धालुओं की एंट्री; अब तक 3.50 लाख ने किए दर्शन

- Advertisement -

भगवान महाकाल की नगरी उज्जैन में महाशिवरात्रि की भव्य छटा देखने को मिल रही है। सुबह 3 बजे से ही महाकाल मंदिर के पट खोल दिए गए हैं। सबसे पहले भस्म आरती हुई। बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए। पट खुलते ही चार धाम मंदिर पर श्रद्धालुओं में भगदड़ मच गई। पुलिस के मेटल डिटेक्टर और कुछ बैरिकेड्स गिर गए। कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया कि भस्म आरती के बाद श्रद्धालुओं के लिए पट खोले गए, तब यह स्थिति बनी थी। यह स्थिति ज्यादा देर नहीं रही, पुलिस-प्रशासन ने व्यवस्था संभाल ली।

भस्म आरती में सबसे पहले भगवान महाकाल को पंडे पुजारियों ने जल चढ़ाया। इसके बाद पंचामृत अभिषेक पूजन में दूध, दही, घी, शक्कर और फलों के रस से अभिषेक किया गया। भांग से अद्भुत श्रृंगार किया गया। सुबह 5.30 बजे से आम भक्तों ने दर्शन करने शुरू किए। दोपहर ढाई बजे तक साढ़े तीन लाख श्रद्धालुओं ने दर्शन किए।

देशभर से श्रद्धालु आज उज्जैन पहुंच रहे हैं
बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक उज्जैन का महाकाल मंदिर दक्षिणमुखी है। साथ ही भस्म आरती की परम्परा के चलते इसका महत्व अत्यधिक बढ़ जाता है। देशभर से श्रद्धालु आज उज्जैन पहुंच रहे हैं। देर रात 2 बजे से मंदिर के बाहर लाइन लगनी शुरू हो गई थी। अब 2 मार्च को रात्रि की शयन आरती के बाद पट बंद होंगे

  • दोपहर 12 बजे उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह, एसपी सतेंद्र कुमार शुक्ल और पुजारी घनश्याम ने पूजन किया। 12.30 भोग आरती की गई।
  • सुबह 10.30 बजे महाकाल मंदिर प्रशासन ने श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुए गणेश मंडपम से एंट्री रोक दी। कार्तिक मंडपम से दर्शन करवाकर श्रद्धालुओं को बाहर किया गया। सांसद अनिल फिरौजिया के हस्तक्षेप के आधे घंटे बाद फिर से गणेश मंडप से एंट्री शुरू हुई।

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -