Monday, July 15, 2024

यहां स्कूटी से ले गए बोर्ड परीक्षा की आंसरशीट:मुंगेली में कर्मचारियों की अजीब लापरवाही बिना सुरक्षा थाने से ले गए उत्तरपुस्तिकाएं;अब DEO बोले-कार्रवाई करेंगे

- Advertisement -

मुंगेली जिले में स्कूल शिक्षा विभाग का अनोखा कारनामा सामने आया है। यहां विभाग के कर्मचारी बिना किसी सुरक्षा व्यवस्था के ही स्कूटी में बोर्ड परीक्षाओं की आंसरशीट ले गए। आमतौर पर कड़ी सुरक्षा के बीच उत्तर पुस्तिकाओं को थाने से संबंधित केंद्र ले जाया जाता है। मगर जिले के लोरमी इलाके से कुछ अजीब ही तस्वीर सामने आई है।

छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल बोर्ड इन दिनों 10वीं और 12वीं की परीक्षा आयोजित कर रहा हैं। जिसमें प्रदेशभर के बच्चे शामिल हो रहे हैं। पिछले साल कोरोना संक्रमण के चलते ऑनलाइन परीक्षा आयोजित हुईं थी। मगर इस बार ऑफलाइन परीक्षा ली जा रही है। इसी कड़ी में लोरमी ब्लॉक में भी परीक्षा आयोजित की गई थी।

थाने में जमा की गईं थी उत्तर पुस्तिकाएं

10वीं की परीक्षाएं सोमवार को समाप्त हो गई हैं। वहीं 12 की परीक्षाएं अभी चल रही हैं। बताया जा रहा है कि परीक्षा के बाद सभी उत्तर पुस्तिकाओं को लोरमी थाने में जमा कराया गया था। जिसे सोमवार को लेने शिक्षा विभाग के कर्मचारी पहुंच गए थे। इसके बाद वह एक-एक कर आंसरशीट का बंडल स्कूटी में ही लेकर निकल गए। उन्हें किसी ने रोका तक नहीं। पुलिस ने इस केस में ये कहता पड़ला झाड़ लिया कि हमसे तो सुरक्षा की मांग ही नहीं गई थी। इसलिए हमने सुरक्षा नहीं दी। स्कूल विभाग के कर्मचारी आंसरशीट लेकर थाने से बी आर साव स्कूल ले गए। यहीं पर सभी आंसरशीट की जांच की जानी है। लोरमी ब्लॉक के सभी स्कूल के लिए इसी स्कूल को संकुल बनाया गया है।

क्यों उठ रहे सवाल

आमतौर पर विभाग इस तरह से आंसरशीट ले जाने के लिए पर्याप्त सुरक्षा के इंतजाम करता है। जिससे कोई बड़ी अनहोनी न घटे। आंसरशीट को बकायदा कड़ी सुरक्षा के बीच किसी चार पहिया वाहन में ले जाया जाता है। क्योंकि मामला बोर्ड परिक्षाओं से जुड़ा हुआ होता है। लेकिन इस बार तस्वीर बिल्कुल जुदा निकली।

DEO बोले-कार्रवाई करेंगे

इधर इस पूरे मामले को लेकर लोरमी थाना के टीआई एन.बी सिंह ने बताया कि परीक्षा के बाद 10वीं और 12वीं बोर्ड की उत्तरपुस्तिका थाने में जमा किए गए थे। शिक्षा विभाग ने परीक्षा के समय सुरक्षा व्यवस्था की मांग की थी। इसलिए सुरक्षा दी गई थी।मगर उत्तर पुस्तिका जमा करने के लिए हमसे कोई सुरक्षा नहीं मांगी गई थी। वहीं जिले के जिला शिक्षा अधिकारी सतीश पाण्डेय (DEO) ने कहा है कि जांच के बाद इस मामले में कार्रवाई की जाएगी।

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -