Tuesday, July 23, 2024

राजस्व मंत्री के कलेक्टर पर गंभीर आरोप:जयसिंह अग्रवाल ने रानू साहू को विकास रोकने वाली कलेक्टर कहा, बोले – उच्च स्तरीय जांच की मांग करेंगे

- Advertisement -

छत्तीसगढ़ के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कोरबा कलेक्टर रानू साहू पर गंभीर आरोप लगाए हैं। कोरबा जिले में एक सड़क का निर्माण रोके जाने से नाराज मंत्री ने यहां तक कह दिया कि कलेक्टर जहां भी रही है उसने भ्रष्टाचार किया है। यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इसकी उच्च स्तरीय जांच की मांग होगी।

कोरबा में मेजर ध्यानचंद चौक से दर्री डैम तक बनी नई सड़क का उद्घाटन करने पहुंचे राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल के तेवर बेहद गर्म थे। हरदी बाजार से इमली छापर तक की अधूरी सड़क से जुड़े एक सवाल पर मंत्री भड़क उठे। उन्होंने कहा, एसईसीएल ने कलेक्टर को फंड दे दिया है। अब कलेक्टर उसमें कुछ अलग से चाहत रखती है। उसमें उसका कोई निजी स्वार्थ होगा। इसीलिए वह काम को रोक रही है। लेकिन वह इसे ज्यादा दिन नहीं रोक पाएगी। रोकेगी तो उसे पछताना पड़ेगा।

मंत्री जय सिंह अग्रवाल ने कहा, हमारा प्रयास है कि पूरे कोरबा जिले की सड़कें बनें। फोरलेन-टू लेन। उस दिशा में हम सब लोग लगे हुए हैं। मुख्यमंत्री जी भी चाहते हैं पूरे प्रदेश की सड़के बनें। मुख्यमंत्री जी ने सड़क को स्वीकृत भी किया हुआ है। पीडब्ल्यूडी मंत्री ने भी सड़कों को स्वीकृत किया है। कोरबा की स्थिति थोड़ी सी अलग है। पूरे प्रदेश के किसी भी जिले में कोई कलेक्टर सड़कों को रोकने का काम नहीं कर रहा है। केवल कोरबा जिले में कलेक्टर कर रही है। यह उसका निजी स्वार्थ है। वह क्या हासिल करना चाहती है यह जांच का विषय है। ज्यादा अड़ंगा सड़कों में लगाएगी तो हम मुख्यमंत्री जी से उच्च स्तरीय मांग करेंगे। जयसिंह अग्रवाल कोरबा से ही विधायक भी हैं।

कहा- जहां भी रही भ्रष्टाचार किया

मंत्री जयसिंह अग्रवाल यहीं तक नहीं रुके। उन्होंने कहा, कलेक्टर का आचरण भ्रष्ट है। वह भ्रष्टाचार में लिप्त रही है, चाहे वह बालोद की कलेक्टर रही हो, हेल्थ की डाइरेक्टर रही हो या फिर जीएसटी की कमिश्नर रही हो। अब वह कोरबा में भी वही काम करना चाहती है लेकिन हम बर्दाश्त नहीं करेंगे।

DMF और CSR मद से बन रही है सड़क

इस संबंध में कलेक्टर रानू साहू से संपर्क नहीं हो पाया है। बताया जा रहा है हरदी बाजार से इमली छापर की सड़क जिला खनिज न्याय और कंपनियों की CSR मद से बनाई जा रही है। इसके लिए एसईसीएल (साउथ ईस्टर्न कोलफिल्ड लिमिटेड) किश्त जारी कर चुका है। लेकिन कलेक्टर इसे निर्माण एजेंसी को नहीं दे रही हैं। कलेक्टर की ओर से पहली किश्त की राशि का उपयोग प्रमाणपत्र मांगा गया है। बताया जा रहा है, निर्माण एजेंसी अभी तक यह उपलब्ध नहीं करा पाई है।

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -