Wednesday, July 24, 2024

रेल मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि दूर के बिजली संयंत्रों को रेक आपूर्ति के लिए रेलवे के पास रोडमैप मौजूद है

- Advertisement -

कुछ मीडिया रिपोर्टों में ऐसी चिंता व्यक्त की गई है कि खदानों से दूर स्थित बिजली उत्पादक संयंत्रों को रेक आवंटन में भेदभाव का सामना करना पड़ रहा है। इन रिपोर्टों में दावा किया गया है कि रेलवे के दक्षिण पूर्व मध्य क्षेत्र (एसईसीआर) की ओर से अपर्याप्त रेक आवंटन के चलते कोयले की कमी होने के कारण महाराष्ट्र में रतनइंडिया पावर लिमिटेड द्वारा संचालित बिजली संयंत्र भी बंद कर दिया गया है। इन भ्रामक मीडिया रिपोर्टों को खारिज करते हुए रेल मंत्रालय ने एक स्पष्टीकरण जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि:

1. दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के तहत, कई ऐसे ताप विद्युत संयंत्र हैं जिनके पास नए कोयला भंडारण मानदंडों के अनुसार कम कोयला भंडार है। इनमें से कई संयंत्र कम दूरी पर हैं और उनके पास दोनों मशीनीकृत तरीके से उतारने की सुविधा है यानी ‘टिपलर अनलोडिंग सिस्टम’- जिसमें साइड डोर के साथ खुले वैगन का इस्तेमाल होता है (बीओएक्सएन टाइप) और ‘हॉपर अनलोडिंग सिस्टम’- जिसमें नीचे की तरफ खुलने वाले हॉपर वैगन का इस्तेमाल किया जाता है(बीओबीआरएन टाइप)।

2. हॉपर रेक से उतारने यानी अनलोडिंग का समय बहुत कम लगता है, जैसे 3 घंटे प्रति रेक जिससे बेहतर टर्नअराउंड (रेक से उतारने और लादने का काम) संभव है। इसके परिणामस्वरूप, इन कम दूरी के संयंत्रों (फास्टर सर्किट के लिए) को हॉपर रेक आपूर्ति में स्वाभाविक रूप से सुधार हुआ है।

3. अमरावती ऊर्जा संयंत्र में हॉपर अनलोडिंग सिस्टम नहीं है। रेकों की कम आपूर्ति की यह मुख्य वजह है।

4. लंबी दूरी पर स्थित कई ताप विद्युत संयंत्रों (टीपीएस) ने इन्वेंट्री खर्च बचाने के लिए अप्रैल-जून 2021-22 के दौरान कोयले की आपूर्ति को नियंत्रित किया है। इन लंबी दूरी के टीपीएस द्वारा कोयले की आपूर्ति के नियमन के कारण बड़ी संख्या में रेलवे रेक रुक गए। बिजली की मांग बढ़ने से इनका मौजूदा स्टॉक खत्म हो गया।

5. एमओसी और एमओपी के परामर्श से रेलवे के पास लंबी दूरी के टीपीएस को रेक की आपूर्ति के लिए पहले से ही रोडमैप मौजूद है, जिसे इन टीपीएस में पर्याप्त कोयला स्टॉक रखने के लिए लागू किया जा रहा है।

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -