Tuesday, July 23, 2024

घूसखोर पुलिस की तस्वीरें वायरल:कार के लाइसेंस पर चला रहा था भारी वाहन; ड्राइवर ने 100 रुपए दिए तो कांस्टेबल बोला- गया जमाना

- Advertisement -

रायपुर पुलिस की घूसखोरी की कुछ तस्वीरें सामने आई हैं। विभाग की किरकिरी होने के बाद अफसरों ने एक पुलिस कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया है, जो इस घूसखोरी के मामले में शामिल था। रायपुर शहर के बहुत से चौराहों पर ट्रैफिक पुलिस की चेकिंग जारी है। इन्हीं में से कुछ जगहों पर अक्सर लोगों से वसूली की जाती है। अब एक चौराहे पर वसूली की तस्वीरें सामने आई हैं।

read more यूक्रेन में फंसे भारतीय स्टूडेंट्स,कीव में यूक्रेन आर्मी ने भारतीय छात्रों पर बंदूक तानी; स्टेशन पहुंचे तो ट्रेन में बैठाने से इनकार किया

मामला वीआईपी रोड चौराहे का है। यहां पदस्थ ट्रैफिक इंस्पेक्टर कृष्ण चंद्रसिदार के अंडर काम करने वाले कांस्टेबल अजीत साहू ने घूसखोरी की है। एक ड्राइवर को कांस्टेबल अजीत ने रोका था, कागजात की जांच की गई पाया गया कि कार के लाइसेंस पर ड्राइवर बड़े वाहन चला रहा है।

read more डॉ. मनसुख मंडाविया ने बल्क ड्रग्स पीएलआई योजना के लाभार्थियों के कंपनी प्रतिनिधियों से बातचीत की बल्क ड्रग्स पीएलआई योजना के तहत 3,685 करोड़ रुपये के निवेश के साथ 33 महत्वपूर्ण एपीआई के लिए 49 परियोजनाओं को मंजूरी दी गई

कांस्टेबल अजीत ने इसके बाद ड्राइवर से कहा कि अब फाइन देना होगा। मामला फंसता देख ड्राइवर ने कांस्टेबल से कहा कि 100 रुपए ले लो और जाने दो। जवाब में अजीत ने कहा कि 100 रुपए का जमाना गया, 200 रुपए दे। ड्राइवर ने धीरे से रुपए कांस्टेबल को रुपए पकड़ा दिए और चलता बना। मगर इस पूरी घटना को वह अपने मोबाइल पर बड़ी चालाकी से रिकॉर्ड कर रहा था, बाद में यह वीडियो उसने बड़े अफसरों को भेजकर अजित के खिलाफ शिकायत कर दी।

मामला पता चला तो आरक्षक अजीत साहू को चलाने कार्रवाई के दौरान वसूली के मामले में निलंबित कर दिया गया। उसे अब पुलिस लाइन अटैच कर दिया गया है। ट्रैफिक डीएसपी सतीश ठाकुर को इस पूरे मामले में जांच रिपोर्ट पेश करने को कहा गया है। जिन इंस्पेक्टर कृष्णचंद्र सिदार अंडर अजीत की ड्यूटी थी उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -